खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

उज्जैन दर्शन

श्री राम जन्‍म स्‍तुति

Post By : Dastak Admin on 25-Mar-2018 09:21:21

ram janam stuti


भये प्रगट कृपाला, दीनदयाला, कौशल्या हितकारी।
हर्षित महतारी, मुनि मन हारी, अद्भुत रूप विचारी॥ १ ॥

लोचन अभिरामा, तनु घनश्यामा, निज आयुध भुज चारी।
भूषण गल माला, नयन विशाल, शोभासिंधू खरारी॥ २ ॥

कह दुई कर जोरी, अस्तुति तोरी, कही बिधि करू अनंता।
माया गुण ज्ञानातीत अमाना, वेद पुरान भनंता॥ ३ ॥

करुना सुखसागर, सुब गुण आगर, जेहि गावाहिं श्रुति संता।
सो मम हित लागी, जन अनुरागी, भयौ प्रगट श्रीकंता॥ ४ ॥

ब्रमांड निकाय, निर्मित माया, रोम रोम प्रति वेद कहे।
मुम उर सो बासी, यह उपहासी, सुनत धीर मति थिर न रहे॥ ५ ॥

उपजा जब गयाना, प्रभु मुस्काना, चरित बहुत बिधि कीन्ह चहे।
कही कथा सुहाई, मातु बुझाई, जेहि प्रकार सूत प्रेम लाहे॥ ६ ॥

माता पुनि बोली, सो मति डोली, तजहु तात यह रूपा।
कीजै शिशु लीला, अति प्रियशीला, यह सुख परम अनूप॥ ७ ॥

सुनी वचन सुजाना, रोदन ठाना, होई बालक सुरभूपा।
यह चरित जे गावही, हरिपद पावही, तेहिं ना परहिं भवकूपा॥ ८ ॥

दोहा :-
विप्र धेनु सुर संत हित लीन्ह मनुज अवतार |
निज इच्चा निर्मित तनु माया गुण गोपार ||

Post your comment
Name
Email
Comment
 

विविध