खास खबरें माहौल बिगाड़ने वालों के विरूद्ध होगी रासुका की कार्रवाई तीन तलाक अध्यादेश को मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी, कानून मंत्री ने की पुष्टि ईलाज के बहाने पत्नि को भेजा भारत, फिर वाट्सएप पर दे दिया तलाक एशिया कप में आज भारत-पाक का होगा आमना-सामना नीतीश-मोदी के खिलाफ राहुल-तेजस्‍वी करेंगे 'MY+BB' फॉर्मूले पर काम मैडम तुसाद में नजर आएंगी सनी लियोन निफ्टी 11300 के ऊपर, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत पत्रकारों के लिये स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा की राशि बढ़कर 4 लाख हुई दिल्‍ली : 7 साल की मासूम के साथ हुई हैवानियत, आरोपी ने प्राइवेट पार्ट में डाला प्‍लास्टिक का पाइप क्‍यों मनाई जाती है तेजा दशमी, कौन थे तेजाजी महाराज ?

उज्जैन दर्शन

सरस्वती वंदना

Post By : Dastak Admin on 20-May-2018 22:32:33

saraswati vandna

हे शारदा माँ , हे शारदा माँ ,

अज्ञानता से हमें तार दे माँ !

तू श्वेत वर्णी कमल पे विराजे ,

हाथों में वीणा मुकुट सर पे साजे !

हम हैं अकेले हम हैं अधूरे ,

 तेरी शरण हम हमें तार दे माँ !

तू स्वर की देवी संगीत तुझमें ,

हर शब्द तेरा हरेक गीता तुझमें !

मन से हमारे मिटा दे अँधेरा ,

हमको उजालों का संसार दे माँ !

मुनियों ने समझी गुनियों ने जानी ,

वेदों की भाषा पुराणों की वाणी !

हम भी तो समझें हम भी तो जानें ,

विद्या का हमको भी अधिकार दे माँ !

हे शारदा माँ , हे शारदा माँ ,

अज्ञानता से तू हमें तार दे माँ !

Post your comment
Name
Email
Comment
 

विविध