खास खबरें विकासखण्ड स्तर पर आयोजित रोजगार मेले में 400 युवाओं का हुआ पंजीयन सुप्रीम कोर्ट में राफेल पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई 26 को पुलवामा हमला : दबाव में आया पाकिस्‍तान ने जैश-ए-मोहम्मद के मुख्‍यालयों का नियंत्रण अपने हाथ में लिया यहॉ शुरू होगा नये नियमों वाला क्रिकेट, टूर्नामेंट में खेली जाएंगी 100 बॉल पीएम मोदी आज राजस्‍थान में करेंगे करेंगे रैली, टोंक से करेंगे चुनावी अभियान की शुरूआत 'दिल चोरी साडा़ हो गया' को मिला सॉन्‍ग ऑफ दि ईयर का अवॉर्ड पीएफ पर बढ़ी ब्‍याज दर, नौकरीपेशा को होगा इतना लाभ MP: प्रशासनिक सर्जरी, राज्य प्रशासनिक सेवा के 47 अधिकारियों के तबादले PRC : अरूणाचल प्रदेश के ईंटानगर में भड़की हिंसा, इंटरनेट बंद संकष्टी चतुर्थी : श्री गणेश दूर कर देते है जीवन के सारे विघ्‍न

शिप्रा नदी और रूद्रसागर में फैली जलकुंभी कब हटाएगा नगर निगम

Post By : Dastak Admin on 22-Sep-2017 10:44:57

उल्लू बनाया

उज्जैन @ शिप्रा नदी को जगह-जगह जलकुंभी ने ढंकने और घाटों पर काई फैलने के बावजूद नगर निगम ने अब तक इसकी सुध नहीं ली है। शिप्रा नदी के विभिन्न क्षैत्रों में जलकुंभी जमी हुई है। जिससे शिप्रा की सौंन्दर्यता पर प्रभाव पढ़ रहा है। खासतौर पर मंगलनाथ क्षैत्र के घाटों के पास जलकुंभी जमी हुई है। पूर्व में भी जलकुंभी को हटाने के लिए नगर निगम ने ठेका दिया था। जिस पर सवाल खडे हुए थे। जलकुंभी हटाने के लिए निगम ने एक मशीन भी खरीदी थीं। जिसका समय-समय पर उपयोग किया जाता रहा है। यही नहीं जलकुंभी रूद्रसागर में भी जमा हो गई है। लेकिन निगम जनता को उल्लू बनाने का काम ही कर रहा है।  मामले में संभागायुक्त एमबी ओझा ने नगर निगम से सवाल किया है कि नदी से जलकुंभी की सफाई कब की जाएगी। उन्होंने जलकुंभी के साथ ही बारिश के कारण घाटों पर जमी काई को भी हटाने के निर्देश दिए है। अब देखना है कि संभागायुक्त के निर्देश पर नगर निगम कब तक शिप्रा से जलकुंभी और काई हटाने का काम करता है। 

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

देश में लोक सभा के चुनाव होने वाले है। क्या केन्द्र में भाजपा की सरकार फिर से आयेगी ?
हां
51%
ujjain poll
नहीं
47%
पता नहीं
2%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

परिवार के साथ समय व्‍यतीत करेंगे। विचारों की सकारात्‍मकता विश्‍वास बढ़ाएगी। अटके काम में गति आएगी। भौतिक सुख साधनों में बढ़ाेतरी होगी। लंबी दूरी की यात्रा से मन में प्रसन्‍नता रहेगी।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    उपदेश देना सरल है, उपाय बताना कठिन। -रविंद्रनाथ टैगोर

Games