खास खबरें मुंबई की मॉडल ने महाकाल मंदिर समिति से मांगी माफी विजय माल्‍या-नीरव मोदी के बाद एक और कारोबारी देश से फरार मुस्लिम महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने इस देश में हो रही तैयारी 'गोल्‍डन ग्‍लोब' रेस में हिस्‍सा ले रहे भारतीय नौसेना के अभिषेक भीषण तूफान में फंसे, बचाव दल रवाना पाकिस्‍तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक ने राहुल गांधी को पीएम बनाने की तरफदारी सनी लियोन को मिला था 'गेम ऑफ थ्रोन्‍स' में काम करने का मौका, इसलिए कर दिया मना... सेंसेक्स 110 अंक , निफ्टी 11100 के नीचे मिंटो हॉल अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर के रूप में तैयार पति-पत्नि के बीच हुआ झगड़ा, पति ने की किस करने की कोशिश, पत्‍नी ने काट दी जीभ आज से शुरू होगा, पितृों का पूजन-तर्पण, पूर्णिमा का होगा पहला श्राद्ध

न नामचीन कलाकार और न ही ख्यात अतिथि, इसलिए गिरता जा रहा है कालिदास समारोह का स्तर

Post By : Dastak Admin on 26-Oct-2017 11:50:04

कालिदास समारोह

उज्जैन @ मध्यप्रदेश सरकार के तत्वावधान में प्रतिवर्ष देवप्रबोधनी ग्यारस से अखिल भारतीय कालिदास समारोह का शुभारंभ होता है। इस बार भी कालिदास समारोह 30 अक्टूम्बर से 6 नवम्बर 2017 तक आयोजित होगा।

       पुराने समय में कालिदास समारोह मध्यप्रदेश की शान हुआ करता था। इस समारोह में देश के तत्कालीन राष्ट्रपति से लेकर हर बड़ा कलाकार सहभागिता करने के लिए बेताब रहता था। लेकिन संस्कृति और कला का स्तर जैसे-जैसे घटता गया। वैसे-वैसे कालिदास समारोह जैसे बड़े कार्यक्रम भी अब छोटे- नजर आने लगे है।

       जहां तक सवाल है सरकार का, तो सरकारी अमला ही इस विशिष्ट आयोजन को सफल बनाने में कारगर सिद्ध नहीं हो पा रही है। इसके लिए सरकार ने काफी धन भी खर्च किया है। बावजूद इसके कालिदास समारोह की प्रसिद्धि में कमी ही नजर आ रहे है।

 

इस बार फिर से बढ़ गया बजट : 2016 में मध्यप्रदेश सरकार ने कालिदास समारोह के लिए 50 लाख रूपए का बजट स्वीकृत किया था। लेकिन समारोह में कुल 78 लाख 20 हजार 894 रूपए का खर्च हुआ। करीब 28 लाख रूपए की यह राशि की प्रतिपूर्ति अकादमी ने बचत राशि से की। जबकि इस बार कालिदास समारोह 2017 के अनुमानित व्यय राशि 1 करोड़ 23 लाख 46 हजार हो गई है। इसमें 93 लाख का बजट और 30 लाख विशेष बजट स्वीकृत हुआ है। यानि इस पिछले एक वर्ष में कालिदास समारोह के बजट में 43 लाख रूपए की बढोत्तरी हुई है।

 

बढ़े कलाकार नहीं आने से घटेगी लोकप्रियता : कालिदास समारोह में इस बार एक भी ऐसा कलाकार नहीं शिरकत कर रहा है जो नामचीन हो। हर बार की तरह देरी से निर्णय लेने के कारण किसी भी बढ़े कलाकार ने कालिदास अकादमी के समारोह में भाग लेने से मना कर दिया। क्योंकि बड़े कलाकार पहले से ही बुक रहते है। इसलिए समारोह की लोकप्रियता कम होती नजर आ रही है।

 

भटकने के बाद बड़ी मुश्किल से मिले अतिथि : कालिदास समारोह में देश के प्रसिद्ध, ख्यात और मशहूर हस्तियां अतिथि के रूप में गौरव बढ़ाती रही है। चाहे देश के राष्टपति हो, कोई बड़ा राजनेता या फिर फिल्मी जगत और बड़ा कलाकार सभी कालिदास समारोह में शिरकत करते रहे है। लेकिन पिछले कुछ सालों से अतिथियों को बुलाने में कालिदास समारोह समिति काफी देर करती रही है। इसी कारण अंतिम समय में कोई भी बड़ा अतिथि समारोह में आने की हां नहीं करता। इस बार भी ऐसा ही हुआ। पहले राष्ट्रपति फिर गृहमंत्री, विदेश मंत्री को निमंत्रण भेजा गया। लेकिन सभी ने आने से मना कर दिया। जैसे-तैसे भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने इस समारोह के लिए स्वीकृति दी है। जबकि औपचारिक तौर पर प्रभारी राज्यपाल ओपी कोहली समारोह में भाग लेंगे।

 

अभी तक नहीं छपे कार्ड, पांच दिन में कैसे होगा प्रचार : कालिदास समारोह का प्रचार-प्रसार करने के लिए विभाग ने 5 लाख रूपए का बजट स्वीकृत किया है। लेकिन अभी तक अतिथियों के नाम और कार्यक्रम की रूपरेखा तय नहीं हो पाई है। इसी कारण समारोह के कार्ड भी नहीं छपे है। ऐसे में एन वक्त पर समारोह का प्रचार-प्रसार करने से समारोह को लोकप्रियता पर प्रश्नचिन्ह्र खड़ा होता नजर आ रहा है। यही वजह है कि कालिदास समारोह में हर बार की तरह इस बार भी ज्यादा दर्शकों की संख्या नहीं दिखाई देंगी।

अपनी जानकारी दे

नाम
ई-मेल
मोबाइल
फोटो

आपके समाचार

शब्द प्रारूप और पाठ प्रारूप में समाचार फ़ाइल

Subscribe Newsletter




आपका वोट

किसानों ने बैंको से ऋण ले रखा था किंतु अब वे उसे चुका नही पा रहे हैं। क्या किसानों के बैंक ऋण सरकार को माफ करना चाहिए ?
हां
88%
ujjain poll
नहीं
10%
पता नहीं
1%
सर्वेक्षण

अपना राशिफल देखें

मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन
मेष

आपकी सोच सकारात्‍मक रहेगीा जीवनसाथी से चली आ रही गलतफहमियां समाप्‍त होंगी। व्‍यापार में तरक्‍की हो सकती हैा अधिकारी आपसे प्रसन्‍न रहेंगेा मित्रों की सलाह काम आएगी। सेहत सामान्‍य।

महाकाल आरती समय

dastak news ujjain

  महाकाल आरती समय

आरती

चैत्र से आश्विन तक

कार्तिक कृष्ण प्रतिपदा से फाल्गुन पूर्णिमा तक

भस्मार्ती

प्रात: 4 बजे श्रावण मास में प्रात: 3 बजे

प्रातः 4 से 6 बजे तक।

दध्योदन

प्रात: 7 से 7:45 तक

प्रात: 7:30 से 8:15 तक

महाभोग

प्रात: 10 से 10:45 तक

प्रात: 10:30 से 11:15 तक

सांध्य

संध्या 5 से 5:45 तक

संध्या 5 से 5:45 बजे तक

सांध्य

संध्या 7 से 7:45 तक

संध्या 6:30 से 7:15 तक

शयन

रात्रि 10:30 बजे

रात्रि 10:30 से 11 बजे तक

आज का विचार

    किसी के प्रति मन में क्रोध लिये रहने की अपेक्षा उसे तुरंत प्रकट कर देना अधिक अच्छा है, जैसे क्षणभर में जल जाना देर तक सुलगने से अधिक अच्छा है | – वेदव्यास -

Games